Saturday, 12 October 2019

13 अक्‍टूबर को 70 साल बाद दिखेगा शरद पूर्णिमा का चाँद,इन चार राशियों की लगेगी लाटरी…

13 अक्‍टूबर को 70 साल बाद दिखेगा शरद पूर्णिमा का चाँद,इन चार राशियों की लगेगी लाटरी…:

70 साल बाद शरद पूर्णिमा की रात लक्ष्मी जी आती है धरती पर..बोले 3 अक्षर का गुप्त मंत्र, उपाय चमका देगा किस्मत को
#13october #Purnima #SharadPurnima #purnima2019 #kojagiripurnima #shaniwar #purnima2019 #purnimavrat #purnimaupay
sharad purnima in hindi

sharad purnima 2018

sharad purnima information in hindi

importance of sharad purnima in hindi

sharad purnima in gujarati

essay on sharad purnima in hindi

sharad purnima essay in gujarati

sharad purnima significance

शरद पूर्णिमा के दिन लक्ष्मी पूजा के छोटे-छोटे उपाय करने पर माँ लक्ष्मी हमेशा मेहरबान रहती है और धन की कभी कमी नही होती है। माता लक्ष्मी सुख-समृद्धि, धन, वैभव और ऐश्वर्य की देवी है। माँ लक्ष्मी की उपासना महाष्टमी, महानवमी और शरद पूर्णिमा को करने पर सुख-ऐश्वर्य प्राप्त होता है। धन की देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के ये आसान उपाय इस प्रकार है-

सुबह जल्दी उठते ही अपने हाथों की लकीरों को देखें। शास्त्रों में लिखा है कि ‘कराग्रे वसते लक्ष्मी’ यानी हाथों के अगले भाग में माता लक्ष्मी का वास होता है।

किसी पवित्र स्थान पर जाकर अर्घ्य दें। पवित्रता में ही मां लक्ष्मी का वास है। अतः पवित्र स्थानों पर जाने से माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

महाष्टमी व महानवमी की शुभ तिथियों पर देवी लक्ष्मी की पंचोपचार पूजा गंध, पुष्प, धूप, दीप व नैवेद्य से करें और लक्ष्मीजी की आरती कर आखिरी में शंख व डमरू बजाएं। ऐसा करने से घर से दरिद्रता, कलह व दोष का नाश हो जाता है।

देवी लक्ष्मी को पूजन में कमल के फूल चढ़ावे और लक्ष्मी मंत्र का 108 बार कमलगट्टे का माला से स्मरण करें।

महाष्टमी व महानवमी पर भगवान विष्णु के मंदिर में पति-पत्नी दोनों साथ जाएं और पीला वस्त्र चढ़ाएं। इससे घर-परिवार में लक्ष्मी कृपा के साथ धन-संपत्ति भी आएगी।

महाष्टमी व महानवमी तिथियों पर गाय के गोबर से बना दीपक मीठा तेल व थोड़ा सा गुड़ डालकर प्रज्जवलित करें और शाम के समय इसे घर के बाहर रख दें। ऐसा करने से घर में लक्ष्मी का प्रवेश होता है।

तुलसी के पत्तों की माला बनाकर माँ लक्ष्मी के चरणों में अर्पित करने पर धन लाभ होता है।

महाष्टमी व महानवमी पर देवी लक्ष्मी को चढ़ाए तुलसी के पत्ते तिजोरी मे रखने पर आर्थिक तंगी दूर होती है।

शुभ तिथियों पर पीपल के पेड़ की परछाई में खड़े होकर उसकी जड़ में दूध, घी व शक्कर मिला पवित्र गंगाजल चढ़ाएं और शाम के समय पीपल के पेड़ की परिक्रमा करने पर धन लाभ होता है।

महाष्टमी व महानवमी पर देवी पूजा में मोती शंख व गोमती चक्र की पूजा करने पर सुख-समृद्धि बनी रहती है।

शुभ तिथियों पर पूजन में कमल, गोबर, आंवले व शंख का उपयोग करने पर परिवार में सुख-शांति बनी रहती है।



via Tumblr https://ift.tt/2M8Zu1W

No comments:

Post a comment