Tuesday, 28 March 2017

2 में जाने क्या है आपकी राशि और भाग्‍य रत्‍न, जो उसकी किस्‍मत बदलने की शक्‍ति रखता है

2 में जाने क्या है आपकी राशि और भाग्‍य रत्‍न, जो उसकी किस्‍मत बदलने की शक्‍ति रखता है:

ज्‍योतिषशास्‍त्र में रत्‍नों का बहुत महत्‍व है। रत्‍नों को अगर राशि के अनुसार पहना जाए तो ये दोगुना फायदा पहुंचाते हैं। राशि के अनुसार पहने गए रत्‍न आपके भाग्‍य में वृद्धि करने की शक्‍ति रखते हैं। शास्‍त्रों में भी इस बात का उल्‍लेख किया गया है कि राशि के अनुसार रत्‍न पहनने से उसके स्‍वामी ग्रह का शुभ फल प्राप्‍त होता है। हर एक राशि का एक्‍ भाग्‍य रत्‍न है जो उसकी किस्‍मत बदलने की शक्‍ति रखता है। आपकी राशि के ि‍लिए भी कोई न कोई चमत्‍कारिक रत्‍न अवश्‍य होगा। पहले आप अपने नाम से जानें कि आपकी क्‍या राशि है
जिन लोगों का नाम चू , चे, चो, ला, ली, लू , ले, लो, अ अक्षर से शुरु होता है उनकी राशि मेष होती है एवं जिनका नाम तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू अक्षर से शुरु होता है उन लोगों की राशि वृश्चिक होती है। मेष और वृश्‍िचक राशि का स्‍वामी मंगल है इसलिए इन दोनों राशियों के जातकों को अपने जीवन में सफलता और खुशियां पाने के लिए मूंगा रत्‍न की अंगूठी पहननी चाहिए। पंचधातु में जड़ी मूंगा रत्‍न की अंगूठी पहनने से मेष और वृश्‍िचक राशि के लोगों के जीवन में सकरात्‍मक बदलाव आते हैं
जिन लोगों के नाम के पहले अक्षर में ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वू , वे आता है उनकी राशि वृषभ है एवं जिनका नाम रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू , ते से शुरु होता है उन लोगों की राशि तुला है। वृषभ और तुला राशि का स्‍वामी शुक्र है इसलिए इन दोनों राशियों के लोगों को शुक्र का रत्‍न ओपल धारण करना चाहिए। ओपल को पंचधातु में धारण करने से वृषभ और तुला राशि के जातकों का जीवन समृद्ध बनता है
अगर किसी का नाम का, की, कू , घ, ड़ छ, के, को, हा से शुरु होता है तो उस व्‍यक्‍ति की राशि मिथुन है एवं जिनके नाम के पहले अक्षर में टो, पा, पी, पू , ष, ण, ठ, पे, पो आता है उनकी कन्‍या राशि होती है। मिथुन और कन्‍या राशि का स्‍वामी बुध है अर्थात् इन दोनों राशियों के लोगों को बुध का चमत्‍कारी रत्‍न पन्‍ना धारण करना चाहिए। आप पन्‍ना रत्‍न पंचधातु में धारण करें। यदि मिथुन और कन्‍या राशि के लोग पन्‍ना रत्‍न पहनते हैं तो उनकी बौद्धिक क्षमता में इजाफा होता है। जिन जातकों का नाम ही, हू , हे, हो, डा, डी, डू , डे, डो से शुरु होता है उनकी राशि कर्क है। कर्क राशि का स्‍वामी चंद्रमा है एवं चंद्रमा का रत्‍न है मोती। चंद्रमा मन का प्रतीक है एवं ये मनुष्‍य के चंचल मन को नियंत्रित करता है। कर्क राशि के जातकों को चांदी की धातु में मोती रत्‍न की अंगूठी पहननी चाहिए। चांदी में जड़ी मोती की अंगूठी धारण करने से कर्क राशि के जातकों का मानसिक संतुलन ठीक रहता है
मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे अक्षर से शुरु होने वाले नाम सिंह राशि के अंतर्गत आते हैं। सिंह राशि का स्‍वामी सूर्य देव हैं। इस राशि के लोगों को माणिक्‍य रत्‍न धारण करने से बहुत फायदा होता है। आप पंचधातु में जड़ी माणिक्‍य रत्‍न की अंगूठी धारण करें।
जिन लोगों का नाम ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ड़ा, भे से शुरु होता है उनकी राशि धुन होती है एवं दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची से शुरु होने वाले नाम मीन राशि के अंतर्गत आते हैं। धनु और मीन राशि का स्‍वामी गुरु है एवं गुरु का रत्‍न है पुखराज। अत: धनु और मीन राशि के जातकों को पुखराज रत्‍न धारण करना चाहिए। आप पुखराज रत्‍न पंचधातु की अंगूठी में भी पहन सकते हैं।
How To Learn Astrology in Hindi is a best Channel for astrology learning, In this channel you'l Learn best astrology. If You want to know about astology, it’s a best channel for astrology learning. In this channel i'l provide free analysis of your janampatri, for more information mail me - astrologyforyou1@gmail.com
learn astrology in hindi , learning astrology , astrology courses , astrology classes, learn astrology online , learn jyotish in hindi , learn astrology in tamil , astrology lessons , astrology learning , astrology courses online , astrology course , learn jyotish in hindi free , learn jyotish , study astrology , learning astrology in hindi , online astrology classes ,free learn astrology in hindi online astrology course , learn jyotish shastra , learn jyotish shastra in hindi , astrology online classes , online astrology courses , astrology learning in hindi http://ift.tt/2iJHsGB
https://twitter.com/AstrologyLearn



via Tumblr http://ift.tt/2o5sUmV

No comments:

Post a comment